Questions? Feedback? powered by Olark live chat software

Steel News

Steel News

112 steel unit closed in Delhi, could increase steel prices General

दिल्ली में 112 स्टील यूनिट बंद,बढ़ सकते हैं स्टील के दाम


Image title

राष्ट्रीय राजधानी में स्टेनलेस स्टील निर्माण करने वाले 112 कारखानों पर दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी (डीपीसीसी) ने सख्त रवैया अपनाया है। डीपीसीसी ने वजीरपुर औद्योगिक इलाके में कुल 112 स्टेनलेस स्टील पिकलिंग यूनिट को बंद करने का आदेश दिया है। कमेटी ने जांच में यह पाया था कि इन कारखानों के जरिए सीवर में खतरनाक एसिड डिस्चार्ज किया जा रहा है। वहीं, स्टील एसोसिएशन का कहना है कि कचरा प्रबंधन के लिए कारखानों के बजाए नगर निकाय इसके लिए जिम्मेदार हैं। एसोसिशन ने चेताया है कि यदि स्टील कारखाने बंद हुए तो स्टील और उनके उत्पाद के दाम भी बढ़ेंगे। चीन से स्टील आयात पर निर्भरता और बढ़ेगी। जिससे घरेलू बाजार पर इसका बुरा असर पड़ सकता है।

डीपीसीसी ने अपने आदेश में टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड औऱ दिल्ली जल बोर्ड को यूनिट की पावर और वाटर सप्लाई को तत्काल बंद करने के लिए कहा है। इसके अलावा डीपीसीसी ने नॉर्थ म्युनिसिपल कॉरपोरेशन एनडीएमसी से इन कारखानों के लाइसेंस भी रद्द करने के आदेश दिए हैं। सब-डिवीजनल मजिस्ट्रेट ने आदेश दिया है कि सभी यूनिट को सील कर दिया जाए।

स्टेनलेस स्टील कटलरी एसोसिएशन के प्रेसिडेंट विजय मलिक के मुताबिक सभी स्टील यूनिट एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं। इन यूनिट से स्टील शीट बनाकर बिक्री की जाती है। यूनिट के बंद होने से स्टील के दाम बढ़ेंगे। इसके अलावा कंपनी स्टील के लिए चीन से आयात पर निर्भर हैे। यह निर्भरता औऱ बढ़ जाएगी। इतना ही नहीं, उन्होंने कहा कि वे दूसरे राज्यों को स्टील का भेजते हैं। यूनिट के बंद होने से चीन से स्टील का आयात बढ़ेगा और घरेलू बाजार को नुकसान पहुंचेगा। हर यूनिट में कम से कम 30 से 40 वर्कर्स काम कर रहे हैं। यूनिट बंद होने से मालिकों को बैंक के लोन अदाएगी में भी बाधा आएगी।

दिल्ली स्टेनलेस स्टील ट्रेड फेडरेशन के प्रेसिडेंट जय कुमार बंसल का कहना है कि पहले नगर निकायों को कचरा प्रबंधन सुनिश्चित करना चाहिए। इंडस्ट्री से निकलने वाले अपशिष्ट पदार्थों और औद्योगिक कचरे को डंप करने के लिए प्रॉपर स्पेस की कमी है। यूनिट से निकलने वाला कचरा अत्यधिक मात्रा में जमा हो रहा है। ऐसी स्थिति कॉमन इंफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट में वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट के बाद भी है। बंसल के मुताबिक सिर्फ 112  स्टील यूनिट ही नहीं, बल्कि  2500 अन्य यूनिट भी हैं। इनके बंद होने से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर लाखों लोगों पर इसका असर पड़ेगा और बहुत सारे लोग बेरोजगार हो जाएंगे।

Last 30 days visitor count: 0